बुजुर्ग अनुभवों का खजाना हैं, उन्हें उपेक्षित न करें

यह बात बिलकुल सत्य है कि बड़े बुजुर्ग अनुभवों का खजाना होते हैं। ये जीवन के कठिन मोड़ पर मार्गदर्शक बनकर हमारा साथ देते हैं। परिवार के बुजुर्ग लोगों की श्रेणी में नाना-नानी, दादा-दादी, सास-ससुर आदि आते हैं। बुजुर्ग घर की शान होते हैं तथा उन्हें अपने आप ही मुखिया का दर्जा प्राप्त होता है, इसलिए ये छोटों द्वारा की जाने वाली गलतियों को नजरअंदाज न करते हुए उसमें हस्तक्षेप करते हैं और सही व गलत का आइना दिखाते हैं। बुजुर्गों का जीवन अनुभवों से भरा पड़ा है, उन्होंने अपने जीवन में कई धूप-छाँव देखे हैं जितना उनके अनुभवों का लाभ मिल सके लेना चाहिए। गृह-कार्य संचालन में मितव्ययिता रखना, खान-पान संबंधित वस्तुओं का भंडा…